API क्या है - Application Programming Interface In Hindi

हेलो दोस्तों, अगर आप Technology के बारे में जानकारी रखने में Interested रहते हैं और Internet को Regularly इस्तेमाल करते हैं तो काफी हद तक संभव हैं की आपने API का नाम सुना ही होगा और इसके अलावा आप किसी भी Technology या Computer Science सम्बंधित क्षेत्र से जुड़ना चाहते तो आपको इसके बारे में जानना जरूरी भी है।



API In Hindi



क्यूंकि API का इस्तेमाल आजकल बहुत ज्यादा होता है और लगभग सभी Web Application और Native Applications में इसका इस्तेमाल होता है इसके अलावा आजकल Technical Interviews  में भी इसके बारे में पुछा जाता है। तो आइये इसके बारे में बात करते हैं और जानते हैं की यह क्या होता है।


API क्या है? (Definition)

API का Full Form Application Programming Interface होता है। एक API बहुत सारे Functions और प्रक्रियाओं का संग्रह होता है जिसकी मदद से ऐसे Applications को बनाया जा सकता है जो किसी दूसरे Application या Service अथवा Operating System के Data या Functions को Access किया जा सकता है। API अपने आप में खुद एक Database नहीं है बल्कि यह तो एक Code होता है जो Server के Access Points को निर्धारित करता हैं।



API Working
API Working



जब भी हम किसी ऐसी Application का इस्तेमाल कर रहे होते हैं जो Internet की मदद से काम करती है तब उसमे कुछ भी Search करने या खोलने पर वह सबसे पहले उस चीज़ यानी Data को Server से Request करता है फिर Server उस Data को Process करता है और Readable/Watchable Form में Convert करता है और उसके बाद User के पास भेज देता है। इसमें User की Request को receive करने और Data को User के पास Send करने का काम Server पर जो Application करती है उसे ही Basically API कहते हैं।



Web APIs

Web APIs उन APIs को कहा जाता है जिनको HTTP Protocol के द्वारा Access किया जाता है इन APIs में एक निर्धारित Endpoint और एक Valid Request और Response के Format का इस्तेमाल किया जाता है। Web APIs के कई Types होते हैं जिनमे से कुछ इस प्रकार हैं :-


Open APIs

Open APIs को External या Public APIs भी कहा है ये वे APIs होती है जिनको Developers डायरेक्ट या Sign Up करके इस्तेमाल कर सकता है ये APIs ज़्यदातर फ्री होती हैं जिन्हे Developers आराम से Access करके अपने Apps में इस्तेमाल कर सकते हैं। इसका सबसे अच्छा उदहारण है JSONPlaceholder API जो में खुद भी इस्तेमाल करता हूँ।


Internal APIs

Internal APIs उन APIs को कहा जाता है जो External User से छुपे होते हैं इन्हे किसी कंपनी के अंदर या किसी Special Application के लिए ही बनाया जाता है इन्हे प्राइवेट APIs भी कहा जाता है।


Partner APIs

Partner APIs उन APIs को कहा जाता है जिन्हे External User इस्तेमाल कर सकता है लेकिन इनमे Restrictions होते हैं जैसे इसके लिए आपको इसके लिए पहले पैसे देने होंगे आजकल यह काफी Common हो रहा है।


Composite APIs

Composite APIs उन APIs को कहा जाता है जो एक ही Request में Multiple Data Sources, Servers या Services को Access कर सकते हैं इनको ज़्यदातर Microservice Architecture में इस्तेमाल किया जाता है।



API कैसे काम करता है?

API कैसे काम करता है इसे समझने के लिए आजकल एक उदहारण बहुत पॉपुलर है जो कुछ इस प्रकार है - मान लीजिये आप किसी रेस्टोरेंट में खाना खाने के लिए जाते हैं और बहा पर मेनू कार्ड में से आप खाने के लिए कुछ choose करते हैं अंदर वह खाना पक भी रहा है लेकिन यहाँ पर आपको वह खाना खाने के लिए अंदर से मंगाना पड़ेगा जिसके लिए आपको वेटर की जरूरत पड़ेगी जो वह खाना लाकर दे इसके लिए आप बेटर को खाना लेन के लिए बोलते हैं और बेटर आपको आपकी पसंद के अनुसार खाना लाकर देता है।

इस उदहारण में आप खुद को एक वह क्लाइंट एप्लीकेशन समझ सकते हैं जिसको किसी दूसरी app से data चाहिए और रेस्टोरेंट में खाना बनाने वाले chef को वह सर्वर समझ सकते हो जहाँ से क्लाइंट एप्लीकेशन को data लेना है और वेटर को API समझ सकते हो जो दोंनो के बीच में कम्युनिकेशन का जरिया है।


API के उदहारण (Examples)


Google sign-in API -

यह एक बहुत ही पोपुलर API है जिसको आपने बहुत सारी APPS और websites पर देखा होगा इसका इस्तेमाल दुसरे Apps या Websites पर sign in करने के लिए किया जाता है जिससे Sign in के लिए उन्हें अलग से दूसरा सिस्टम ना बनाना पड़े।


Facebook API -

यह API भी काफी हद्द तक गूगल की sign in API की तरह ही होती है लेकिन इसमें और भी अलग-अलग Features होते हैं जिससे ज्यादा Data एक्सेस किया जा सकता है कहने का मतलब है की इसे Sign इन के अलावा और भी चीजों में use किया जाता है।


OpenGL API -

OpenGL या Open Graphic Library एक ओपन सोर्स ग्राफ़िक्स लाइब्रेरी है जिसका इस्तेमाल करके graphics आदि डिस्प्ले कराए जाते हैं इसका इस्तेमाल android operating सिस्टम में भी किया जाता है।


Microsoft DirectX -

यह भी OpenGL की तरह ही Graphics और मल्टीमीडिया की लाइब्रेरी या API है जिसे विंडोज Operating सिस्टम में इस्तेमाल किया जाता है।


API और security

API को लेकर काफी लोगो के दिमाग में यह बात आती है की अगर API के जरिये हमारे फ़ोन का Data सर्वर पर जा सकता है तो हमारे फ़ोन का data इससे कैसे सुरक्षित है, अगर आपके दिमाग में भी यह सवाल है तो आपको बता दूं की API के जरिये एप्लीकेशन के द्वारा बस उतना ही data भेजा जाता है जितने की जरूरत हो और सर्वर बापस भी बड बही data भेजता है जितने की हमारी app को करूरत होती है।

अगर आप किसी app में sign in with google करते हैं और अपना ईमेल और पासवर्ड डालते हैं तो सिर्फ यही data गूगल के सर्वर पर जाएगा और बहा से रिक्वायर्ड data बापस आएगा। उसी तरह से अगर आप Facebook पर पोस्ट करते हैं तो Facebook के सर्वर पर उस पोस्ट से सम्बंधित जानकारी ही जाएगी।


API कहाँ इस्तेमाल किया जाता है?

API को प्रोग्रामिंग में लगभग हर जगह इस्तेमाल किया जाता है अब यह बिलकुल भी जरूरी नहीं है की API केवल किसी सर्वर से ही data डाउनलोड करता हो, हो सकता है किसी App को किसी स्पेशल लाइब्रेरी का Data इस्तेमाल करना है तो भी उसे API की जरूरत पड़ेगी। इसका उदहारण है OpenGL और Microsoft की DirectX लाइब्रेरी जिनका इस्तेमाल करके हम Operating system से ही कुछ data लेते हैं।

इसके अलावा अगर हमें अपनी app में लॉग इन और sign up के लिए आप्शन लगाने हैं और हमें इसके लिए अपना खुद का सर्वर नहीं बनाना है तो आप Google या दूसरी APIs को काम में ले सकते हैं।

API का Digital वर्ल्ड में बहुत ही बड़ा योगदान है इसको एक छोटी सी पोस्ट में नहीं बताया का सकता इसके लिए आपको थोडा और नॉलेज लेना होगा जिससे आप API को और बेहतर तरीके से समझ पाएं।



API के फायदे (Advantages)

Time saving & efficient - API का इस्तेमाल करने पर सारा कोड हमें लिखना नहीं पड़ता हम पहले से लिखा हुआ कोड इस्तेमाल करते हैं और यह कोड हमने बहुत ही easy और efficient तरीका देता है इस कोड को एक्सेस करने का।

Automation - इसमें हमें data ट्रान्सफर और receive करने के लिए काम नहीं करना पड़ता यह सारा काम API automatic ही कर देती है।

No need to rewrite - जैसा की हमने पहले भी जाना हमे सारा कोड फिर से लिखने की जरूरत नहीं होती हमें बस पहले से लिखे हुए कोड को एक्सेस करना होता है।




दोस्तों, आज हमने बात की API क्या है - Application Programming Interface In Hindi उम्मीद है आपको जानकारी अच्छी लगी होगी और कुछ न्य सीखने को को मिला होगा इसके आलावा आपके किसी भी अन्य जानकारी या सुझाव के लिए comment करे और दोस्तों के साथ में शेयर करे।

2 टिप्‍पणियां: